पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद उन 23 नेताओं में शामिल थे, जिन्होंने कांग्रेस के नेतृत्व में बदलाव और इसे और ज्यादा सजीव बनाने के लिए पत्र लिखा था। यूपी में इसको लेकर कुछ नेताओं ने विरोध भी किया था।

लखनऊ
उत्तर प्रदेश कांग्रेस के बड़े नेता जितिन प्रसाद ने बीजेपी का दामन थाम लिया है। इसके साथ ही राज्य विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को कमजोर करने के बीजेपी के अभियान की शुरुआत हो गई है। जितिन प्रसाद से बीजेपी को मिली मजबूती का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि वो ब्राह्मणों के बड़े नेता माने जाते हैं और यूपी में ब्राह्मण मतदाताओं की 10% की बड़ी हिस्सेदारी है।

अनिल बलूनी के ट्वीट से चल पड़ा था कयासों का दौर
कांग्रेस पार्टी को बड़ा झटका लगने की आशंका आज बीजेपी नेता अनिल बलूनी के एक ट्वीट के साथ जताई जाने लगी थी। उन्होंने कहा था कि आज एक दिग्गज शख्सियत दोपहर 1 बजे पार्टी में शामिल होगी। उनके इस ट्वीट के साथ ही कयासों का बाजार गर्म हो गया। कुछ ही घंटे में संभावनाओं के बादल छंट गए और जितिन प्रसाद के नाम का नाम सामने आ गया। प्रसाद केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल के दिल्ली स्थित आवास पहुंच गए और वहां थोड़ी देर रुकने के बाद सीधे केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के घर गए। जितिन प्रसाद ने तय कार्यक्रम के मुताबिक बीजेपी मुख्यालय में कमल का दामन थाम लिया। उन्हें केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने बीजेपी की सदस्यता दिलाई।

दिल्ली में ही हैं जितिन प्रसाद
लोगों ने पता करना शुरू किया तो पता चला कि यह बड़े नेता और कोई नहीं बल्कि उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर के जितिन प्रसाद हैं। जितिन प्रसाद इस समय दिल्ली में ही हैं। वो थोड़ी देर पहले पीयूष गोयल के घर पहुंचे हैं जहां से उनका बीजेपी मुख्यालय जाने का कार्यक्र है जहां वो पार्टी की सदस्यता लेंगे।

Jitin Prasad